प्रभारी वित्त मंत्री की जीएसटी काउंसलिंग में दरियादिली.. 100 से अधिक वस्तुओं पर जीएसटी में कटौती से जनता को मिलेगी राहत..

जीएसटी काउंसलिंग की बैठक से आया राहत का संदेश-

देहली। इस साल 4 राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले आम नागरिकों के साथ व्यापारी वर्ग की नाराज गी  दूर करने के लिए जीएसटी काउंसलिंग की बैठक में  खास ध्यान दिया गया है। शनिवार को संपन्न जीएसटी काउंसलिंग की बैठक में 100 से अधिक वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी की दरों में कटौती करते हुए सभी को राहत देने का प्रयास किया गया है।

शनिवार को कार्यवाहक वित्त मंत्री श्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में हुई जीएसटी काउंसिल ने 100 से अधिक वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी की दरें घटा दी। वहीं रिटर्न प्रक्रिया सरल बनाते हुए सालाना पांच करोड़ रुपये से कम टर्न ओवर वाले व्यापारियों को हर महीने जीएसटी रिटर्न भरने की जगह तीन महीने में एक बार रिटर्न भरने की सुविधा देने का फैसला किया गया है, जिससे 93 प्रतिशत व्यापारियों को फायदा होगा।  जीएसटी कानून के तहत ‘रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म’ के विवादित प्रावधान का क्रियान्वयन भी 30 सितंबर 2019 तक टालने का निर्णय किया गया है।

शनिवार रात जीएसटी काउंसलिंग के फैसलों की जान कारी देते हुए गोयल ने कहा कि देशहित और जनहित को सर्वोपरि रखते हुए सभी राज्यों की सहमति से ये निर्णय हुए हैं। इससे मध्यम वर्गीय परिवारों और छोटे व्यापारियों को बड़ी राहत मिलेगी। अगले सात-आठ महीने में आम चुनाव है और इस लिहाज से वर्तमान राजग सरकार अब कोई पूर्ण बजट पेश नहीं करेगी। ऐसे में काउंसिल का यह कदम अहम है।

28 से 18 फीसदी जीएसटी वाली वस्तुएं-वाशिंग मशीन, फ्रिज, फ्रीजर, वॉटर कूलर, आइसक्रीम फ्रीजर, दूध के चिलिंग प्लांट, लेदर इंडस्ट्री से जुड़े रेफ्रिजरेटर उपकरण, पेंट, वार्निश, पुट्टी, रेसिन सीमेंट, लिथियम बैटरी, वैक्यूम क्लीनर, सेंट स्प्रे, टायलेट स्प्रे, घरेलू इलेक्ट्रिक उत्पाद (मिक्सर ग्राइंडर, जूस निकालने वाली मशीन), हेयर क्लिपर, शेवर, इमर्सन हीटर, स्टोरेज वॉटर हीटर, हैंड ड्रायर, इलेक्ट्रिक आयरन, 68 सेंटीमीटर तक के टीवी, क्रेन, लॉरी, आग से बचाव के वाहन, कंक्रीट मिक्सर लॉरी, स्प्रेयिंग लॉरी, ट्रेलर और सेमी ट्रेलर।

18 से 12 फीसदी जीएसटी वाली वस्तुएं-बांस से बनी फर्श, पीतल वाला केरोसिन स्टोव, हाथ से चलने वाला रबर रोलर, जिपर, हस्तशिल्प के सामान मसलन पर्स, हैंडबैग और ज्वैलरी बाक्स, पेंटिंग वाले लकड़ी के फ्रेम, फोटोग्राफ, शीशे, स्टोन आर्ट, पीतल, लोहे, तांबे और एल्यूमिनियम से बनीं कलाकृतियां, हैंडीक्राफ्ट लैंप, मोम, स्टियरिन, प्राकृतिक गोंद वगैरह से बने उत्पाद पर 

18 से पांच फीसदी जीएसटी वाली वस्तुएं-1000 रुपये तक के फुटवियर (इससे ऊपर के फुटवियर पर 18 फीसद), तेल में मिलाने के लिए बिकने वाले एथनॉल, सॉलिड बॉयो फ्यूल और हैंडीक्राफ्ट पर।

12 से पांच फीसदी जीएसटी वाली वस्तुएं-मखमल के कपड़े, हैंडलूम दरी, फर्टिलाइजर में प्रयोग होने वाला फास्फोरिक एसिड, बुनी हुई कैप और एक हजार रुपये से कम कीमत की टोपी, हाथ से बने कालीन, फीते और वे कपड़े, जिन पर चित्र बने हों।

जीएसटी से मुक्त वस्तुएं- स्टोन, मार्बल और लकड़ी के देवी-देवताओं की मूर्तियां, राखियां, सेनीटरी नेपकिन, फूल वाली झाड़ू, खाली दोना, भारत सरकार द्वारा जारी होने वाले सिक्के अब जीएसटी से मुक्त कर दिए गए है।

प्रभारी वित्त मंत्री श्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में संपन्न जीएसटी कमेटी की बैठक में जिस तरह से जनता का ध्यान रखते हुए राहत मामले में दरियादिली दिखाई गई है उसे ध्यान में रखकर लोगों की अपेक्षाएं इस बात को लेकर बढ़ गई हैं यदि वित्त मंत्री का प्रभार श्री गोयल के पास ही रहे तो देश की जनता को टैक्स मामले में और भी राहत मिलेगी।

मुख्यमंत्री असंगठित श्रमिक योजना के पंजीयन कार्ड बने मजाक.. अनेक ग्रामीणों को जन्म के पहले ही बना दिया असंगठित मजदूर..

 जन्म के पूर्व हो गया मजदूर सुरक्षा योजना का पंजीयन- 

दमोह। मजदूरों की सुरक्षा के लिए लागू हुई मजदूर सुरक्षा योजना तहत 1 अप्रैल से असंगठित क्षेत्र के मजदूरों का भी पंजीयन जोर शोर के साथ शुरू किया गया था। मुख्यमंत्री असंगठित श्रमिक पंजीयन योजना तहत मप्र में ग्राम पंचायत स्तर से लेकर नगरी निकायों में हजारों की संख्या में पंजीयन कराए गए। और अब मजदूरों को परिचय पत्र रूपी कार्ड वितरण करने की बारी आई तो उनमें जमकर गड़बड़ी देखने को मिल रही है।

मंत्री शिवराज सिंह चौहान के जन आशीर्वाद यात्रा पर निकलने के बाद अब उन क्षेत्रों में प्राथमिकता के आधार पर मुख्यमंत्री असंगठित समिति पंजीयन योजना के परिचय पत्र वितरित किए जा रहे हैं। जिन क्षेत्रों में मुख्य मंत्री की यात्रा को पहुंचना है वहां पर  सबसे पहले  इन परिचय पत्रों का वितरण किया जा रहा है । इसी कड़ी में   दमोह जिले के पटेरा विकासखंड अंतर्गत मजदूरों को जो परिचय पत्र वितरित किए गए जिनमें गंभीर सामने आई है। जिसे जल्दबाजी में टारगेट पूरा करने के चक्कर में घी गई मंसूरी भूल भी कहा जा सकता है।

अटल न्यूज़24 के पास में ऐसे अनेक मजदूरों ने  मुख्यमंत्री असंगठित श्रमिक पंजीयन योजना तहत दिए गए परिचय पत्र दिखाएं, जिनमें जन्म के पूर्व से ही इनको मजदूर घोषित कर दिया गया है। इन परिचय पत्रों में पंजीयन की दिनांक 22 मई 2018 दिखाई दे रही है। किन्तु जन्म दिनाँक  3 जुलाई 2018 दर्ज किया गया है। जिससे यह स्पस्ट हो रहा है की पंजीयन पूर्व में ही हो गया और जन्म बाद में हुआ।

मप्र असंगठित शहरी एवं ग्रामीण कर्मकार कल्याण मंडल भोपाल द्वारा मुद्रित कराए गए इन त्रुटि युक्त कार्डो की आने वाले समय में उपयोग करने की आवश्यकता जब मजदूरों को पड़ेगी तब  हो सकता है कि इस त्रुटि की वजह से इनको योजना के लाभ से वंचित कर दिया जाए। पटेरा क्षेत्र में मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा के पहले इस तरह के गलत प्रिंटेड कार्डों का बटना चर्चा का विषय बना हुआ है।

जो गलत छपे कार्ड फिलहाल सामने आए हैं उनमें 
पंजीयन हेतु आवेदन कार्यालय ग्राम पंचायत पटेरिया में जमा कराये गए थे। और इनके पंजीयन की समस्त जिम्मेदारी सचिव व रोजगार सहायक की होती है। जहां तत्कालीन सचिव अनरथ सींग लोधी रोजगार सचिव लष्मीकांत दुबे पंजीयन के समय अपनी सेवाएं दे रहे थे। यह जांच का विषय होगा की यह गंभीर त्रुटि ग्राम पंचायत स्तर पर हुई है अथवा भोपाल लेवल पर। लेकिन इसका खामियाजा तो पंजीकृत मजदूरों को ही देर-सवेर भुगतना होगा। पटेरा से संजय शुक्ला की रिपोर्ट

खड़े ट्रक से Maruti वैन टकराई, मंत्री जी से मिलने गई 3 महिलाओं की सड़क हादसे में मौत..

चनौआ ग्राम में खडे ट्रक में मारुति वेन घुसी, 3 की मौत-

गढ़ाकोटा। समय काल और मौत का कोई ठिकाना नहीं होता। किस की मौत कब कहां आ जाए और जिससे जीते जी न मिल पाए वह मौत के वक्त सामने आए। ऐसे ही कुछ हालात बीती रात गढ़ाकोटा में हुए एक दर्दनाक सड़क हादसे के बाद सामने आए हैं।

दरअसल गढ़ाकोटा क्षेत्र के कुछ ग्रामीण Maruti वैन से अपने जनप्रतिनिधि प्रदेश के पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव से मिलने के लिए आए थे। परंतु उनके नहीं मिलने पर वापस अपने गांव जा रहे थे। रास्ते में चंनउआ के समीप उनकी Maruti वैन एक खड़े ट्रक से टकरा गई। हादसा इतना दर्दनाक था 3 महिलाओं की मौके पर ही मौत हो गई। आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हो गयेे।


प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार की रात सागर,दमोह मार्ग पर चनौआ ग्राम के पास गोवर्धन ढाबा के सामने खड़े ट्रक क्रमांक एम, पी,09 एच्,एफ-6186 में गढ़ाकोटा की ओर से जा रही मारुति वेन पीछे से जा टकराई। जिस से 3 महिलाओ की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि 12 लोग घायल हो गए जिसमे महिला,पुरुष शामिल थे। घटना की जानकारी मिलते है पंचायत मंत्री गोपाल भार्गव ने मोके पर पहुँचकर घायलो को अपनी निजी गाड़ी में बैठाकर जिला अस्पताल ले गए।

दुर्घटना इतनी भयानक थी कि वेन चालक गाड़ी में फस गया। जिसे मोके पर मंत्री भार्गव ने जे,सी,बी बुलाकर वेन का अगला हिस्सा कटवाकर चालक को बाहर निकाला।घटना स्थल पर ग्राम रामपुर निवासी दशोदा सेन उम्र 35 वर्ष, राधारानी साहू 35 व कविता साहू 36 वर्ष की मौत हो गईं। घायलो में जमना बाई, दीछा, सुमन, रितिक, फूलरानी, विनय व चालक रामरूप साहू की हालत ठीक है। फिलहाल पुलिस विवेचना में जुटी है। यह सभी लोग मंत्री गोपाल भार्गव से मिलने उनके निवास पर आए थे। 

गढ़ाकोटा से रवि सोनी की रिपोर्ट