होनहार बालक की मौत के सदमें में नानी की मौत-

दमोह। जिले के जबेरा कस्बे में कार ड्राइविंग सीखते समय कक्षा ग्यारहवीं के छात्र मुकुल की कार दीवार से टकरा जाने से मौत हो जाने का दुखद घटनाक्रम सामने आया था। रिश्तेदार और परिजन अभी इस सदमे से उबरे भी नहीं थे कि पोते के गम में उसी दिन से बेसुध मुकुल की नानी की भी आज सांसे थम गई।

जबेरा नगर के प्रतिष्ठित बाजपेई परिवार के एक होनहार बालक मुकुल बाजपेई का शुक्रवार को एक सड़क दुर्घटना में दुखद निधन हो गया था। इस दुर्घटना की खबर जैसे ही लोगो को मिली सुनकर लोग स्तब्ध रख गए थे। दुर्घटना में बालक मुकुल की मृत्यु का समाचार सुनकर मुकुल की नानी श्रीमती कल्पना तिवारी 55 वर्ष पति कृपाशंकर तिवारी भी सदमे में आ गई थी।

शुक्रवार को मुकुल की मौत के सदमे में उसकी नानी एकाएक यह कहकर की अपने मुकुल के बिना नही रह सकती। वह जमीन पर अचेत होकर गिर पड़ी थी। जिसके बाद परिवार जन ने तत्काल श्रीमती कल्पना तिवारी को शुक्रवार को ही जबलपुर के मेट्रो हॉस्पिटल में एडमिट कराया था।

रविवार को उनके निधन की खबर जैसे ही जबेरा पहुची लोग गमगीन होते हतप्रद रह गए। मुकुल की नानी श्रीमती कल्पना का दाह संस्कार पैतृक गांव बेलखेड़ी (वलेह) जिला सागर में किया गया। जिसमें जबेरा से भी लोग सम्मिलित हुए। एकाएक घटी दोनों दुखद घटनाओ से जैसे दोनों परिवारों में भारी दुख का पहाड़ से टूट गया है। जो भी इन दोनों घटनाओ की खबर सुनता है स्तब्ध और दुखी हो जाता है।

परम पिता परमेश्वर नानी एवं पोते की आत्मा को अपने चरणों में स्थान दें और परिजनों को यह गहन दुख सहने की शक्ति प्रदान करें। ओम शांति शांति शांति.

जबेरा से मयंक जैन की रिपोर्ट