जबेरा से भाजपा टिकिट बदलवाने जुटे हजारो जन-

दमोह। जिले के जबेरा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी की घोषणा के बाद क्षेत्र में जबरदस्त विरोध के हालात बनने लगे हैं। भाजपा के प्रदेश मंत्री ने इस बगावती तेवर दिखाते हुए सांसद प्रहलाद पटेल पर खुलकर आरोप लगाए हैं। वहीं पार्टी टिकट नहीं मिलने पर ऋषि लोधी निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर भी नामांकन दाखिल कर सकते हैं।

जबेरा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा टिकट के प्रमुख दावेदार और पार्टी के प्रदेश मंत्री ऋषि लोधी और उनके समर्थको के लिए पार्टी टिकट नहीं मिलना किसी सदमे से कम नहीं है। वही पार्टी द्वारा धर्मेंद्र सिंह को भाजपा टिकट की घोषणा के बाद तेजगढ़ हर्रई क्षेत्र के हजारों समर्थकों में निराशा के साथ नाराजगी का माहौल बना हुआ है। 

दिवाली के दिन तेजगढ़ हर्रई क्षेत्र में एक विशाल कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किया गया। 4 घण्टे से अधिक तक चले इस सम्मेलन में 10,000 से अधिक ग्रामीणों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए ऋषि लोधी के पक्ष में नारे बुलंद किये। दरअसल  कांग्रेश के कब्जे वाली इस सीट पर पार्टी संगठन  और मुख्यमंत्री द्वारा संकेत मिलने के बाद ऋषि लोधी 5 साल से गांव गांव में ग्रामीणों के बीच जाकर पार्टी के पक्ष में सतत संपर्क बनाए हुए थे। 

परंतु ऐन मौके पर ऋषि की टिकट काटकर धर्मेंद्र लोधी को पार्टी प्रत्याशी घोषित कर दिया गया जो पार्टी के लिए नया चेहरा होने के साथ ही क्षेत्र के अनेक गांवो में अनजान बताए गए हैं। इनकी पत्नी का नोहटा क्षेत्र से पंचायत चुनाव हार जाने तथा ऋषि लोधी के भारी बहुमत से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीतने जैसे हालात सभी के सामने रहे हैं। ऐसे में ऋषि की टिकट काट दिए जाने की एक बजह सांसद प्रहलाद पटेल से इनकी पटरी नहीं बैठ पाना भी माना जा रहा है।

दीपावली के दिन आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में ऋषि लोधी के साथ खड़े हजारो लोगो ने हाथ उठाकर हर हाल में साथ निभाने का संकल्प लेते नजर आए। वहीं ऋषि ने भी सांसद प्रहलाद पटेल पर निशाना साधने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। बता दे की यहां से टिकट के दावेदार चंद्रभान सिंह जहां सांसद पटेल के नजदीकी रिश्तेदार है वहीं धर्मेंद्र लोधी चंद्रभान सिंह के नजदीकी रिश्तेदार हैं। ऐसे में यह पूरा टिकट का खेल सांसद के इशारे पर चलने की वजह से उनके खिलाफ नाराजगी जताई जा रही है।

ऋषि लोधी के समर्थन में एकत्रित हुए इन लोगों ने भाजपा हाईकमान जबेरा क्षेत्र की टिकट बदलकर ऋषि लोधी को दिए जाने की पुरजोर मांग की है। साथ ही अपने तीखे तेवर दिखाते हुए यह स्पष्ट कर दिया है कि यदि पार्टी ऋषि को टिकट नहीं देती है तो वो निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव मैदान में उतर सकते है। यदि ऐसा होता है तो भाजपा के लिए एक बार फिर क्षेत्र से खतरे की घंटी बन सकती है। 

बताया जा रहा है कि धर्मेंद्र लोधी को टिकट दिए जाने से पूर्व विधायक और पूर्व मंत्री और पूर्व भाजपा प्रत्याशी दशरथ सिंह भी नाखुश बने हुए हैं। दरअसल 2008 में उनकी हार की वजह धर्मेंद्र सिंह के पिता भाव सिंह लोधी का जनशक्ति पार्टी से मैदान में मौजूद रहना रहा था। वही वह स्वयं इस बार पुनः पार्टी टिकट के दावेदार थे। 

इधर सांसद के खास समर्थक जिला पंचायत अध्यक्ष शिवचरण पटेल ने टिकट घोषणा के पूर्व जिस तरह से अपने जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव का शिगूफा छोड़ा उसे भी सांसद की शह मिलना बताया जा रहा है। तथा जिला पंचायत अध्यक्ष का यह पत्र ऋषि की टिकट कटने की एक बजह भी बताया जा रहा है

देखना होगा भाजपा के प्रदेश मंत्री टिकट ऋषि लोधी नहीं मिलने पर अपने समर्थकों के कहने पर बगावती तेवर दिखाकर निर्दलीय प्रत्याशी बनके मैदान में अपना जौहर दिखा पाते हैं अथवा नहीं। लेकिन उनके समर्थकों द्वारा आज तेजगढ़ हर्रई क्षेत्र में किए गए जोरदार प्रदर्शन से एक बात तो स्पष्ट हो गई है कि बंदे में दम है। अटल राजेंद्र जैन की रिपोर्ट