रिश्वतखोर रोजगार गारंटी अधिकारी पकड़ा गया-

दमोह। रोज़गार गारंटी योजना तहत CC जारी करने के बदले में रिश्वत की मांग करने वाले एक सहायक यंत्री के हाथ लाल पट्टी वालों की रिश्वत से लाल हो गए। लोकायुक्त की टीम ने 15 हजार की रिश्वत लेते हुए इस सहायक यंत्री को रंगे हाथों दबोच कर भ्रष्टाचार अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत कार्यवाही की है।

बटियागढ़ में रोजगार गारंटी योजना के सहायक यंत्री सलिल जैन को शुक्रवार दोपहर सागर से पहुंची लोकायुक्त टीम ने 15 हजार की रिश्वत लेते रंगे हांथो गिरफ्तार किया। यह कार्यवाही मगोला ग्राम पंचायत के सरपंच दशरथ सिंह लोधी की शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस द्वारा की गई है।

दरअसल मंगोला के सरपंच लाल पट्टी धारी और पथरिया विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जन शक्ति चेतना पार्टी के घोषित प्रत्याशी दशरथ सिंह से गारंटी योजना तहत गांव की सीसी रोड की सीसी जारी करने के एवज में 20 हजार की रिश्वत मांगी गई थी। 15 हजार रु में सौदा तय हो जाने के बाद इसकी शिकायत लोकायुक्त से की गई। जिसके बाद आज 15 हजार की रिश्वत लेते सहायक यंत्री सलिल जैन  रंगे हाथों पकड़े गए।

बटियागढ़ में  लोकायुक्त कारवाई की खबर फैलते ही हड़कंप के हालात निर्मित हो गए। तथा यहा पर रिश्वतखोरी में लिप्त तथाकथित कर्मचारी कार्यालय छोड़ कर गायब हो गए। सागर से आये लोकायुक्त टीआई बीएम दिवेदी व उनकी टीम द्वारा भ्रष्टाचार अधिनियम की विभिन्न धाराओंं के मामला पंजीबद्ध करके भ्रष्ट अधिकारी पर करवाई जारी है।

अभी तक अवैध शराब बेचने वालों के खिलाफ मुहिम चलाने वाले लाल पट्टी धारी संगठन द्वारा कराई गई इस कार्यवाही से हड़कंप के हालात बने हुए हैं। वही उम्मीद की जा रही है यदि लाल पट्टी वालों ने कुछ और भ्रष्ट अधिकारियों के हाथ रिश्वत से लाल करा दिए तो आम जनता के बीच में इनका विश्वास और भी बढ़ेगा।

खिलान विश्वकर्मा के साथ अभिजीत जैन की रिपोर्ट